यूखरिस्तीय प्रार्थना – 9

मेल-मिलाप - 2

Preface :

पु. - प्रभु आप लोगों के साथ हो।

सब - और आपके साथ भी।

पु. - प्रभु में मन लगाइए।

सब - हम प्रभु में मन लगाए हुए है।

पु. - हम अपने प्रभु ईश्वर को धन्यवाद दें।

सब - यह उचित और आवश्यक है।

पु. - हे पावन पिता, यह परम उचित और आवश्यक है कि हम तुझे धन्यवाद दें, क्योंकि तू हमें निरंतर प्रेरणा देता है कि हम अधिकाधिक जीवन की सम्पूर्णता प्राप्त करें। तू प्रेममय और दयालु है, इसलिए पापी को सदा क्षमा और आश्रय प्रदान करना चाहता है।

सब - तुझे धन्यवाद, हे पिता।

पु. - हमने बार-बार तेरा व्यवस्थान भंग किया; फिर भी तूने हम से मुहँ नहीं मोड़ा, बल्कि अपने पुत्र येसु ख्रीस्त के द्वारा हमारे साथ एक ऐसा नया संबंध स्थापित किया, जो बिलकुल अटूट है।

सब - तुझे धन्यवाद, हे पिता।

पु. - तू चाहता है कि तेरी प्रजा कृपा और मेलमिलाप की इस अवधि में ख्रीस्त की ओर फिर कर हृदय की शांति प्राप्त करे, और पवित्र आत्मा की प्रेरणा स्वीकार कर सभी मनुष्यों की सेवा करे।

सब - तुझे धन्यवाद, हे पिता

पु. - इसलिए हम तेरा गुणगान और धन्यवाद करते हैं, तथा असंख्य स्वर्गदूतों के साथ तेरे प्रेम की महिमा और मुक्ति का जयगान करते हैं।

Sanctus:

सब - पवित्र, पवित्र, पवित्र! प्रभु, विश्वमण्डल के ईश्वर! स्वर्ग और पृथ्वी तेरी महिमा से परिपूर्ण है। स्वर्ग में प्रभु की जय! धन्य हैं वे जो प्रभु के नाम पर आते हैं। स्वर्ग में प्रभु की जय!

The Priest, with hands extended, says:

पु. - हे ईश्वर, तू सृष्टि के प्रारंभ से ही सब कुछ मनुश्य के कल्याण-हित करता है कि मनुश्य तेरे ही समान पवित्र बने।

The priest joins his hands, and, holding them outstretched over both bread and chalice, says:

पु. - यहाँ एकत्र अपनी प्रजा पर कृपादृष्टि डाल और पवित्र आत्मा के सामर्थ्य से इन दानों को

He joins his hands and, making the sign of the cross over the offerings, says:

पु. - अपने प्रिय पुत्र हमारे प्रभु $ येसु ख्रीस्त के शरीर तथा रक्त में बदल दे। हम सब को उन्हीं में तेरे पुत्र-पुत्रियाँ बनने का सौभाग्य मिला है।

सब - तुझे धन्यवाद, हे पिता।

Narrative of the institution:

पु. - जब हम लोग सचमुच विनाष के पथ पर बढ़ रहे थे, और तेरे सम्मुख उपस्थित होने के सर्वथा अयोग्य थे, तूने हमारे प्रित अपना असीम प्रेम प्रदर्षित किया; तेरे एकमात्र धर्मी पुत्र ने अपने को हमारे लिए अर्पित कर दिया तथा क्रूस के काठ पर चढ़ने से नहीं हिचके।

सब - तुझे धन्यवाद, हे पिता।

पु. - उन्होंने आकाश और पृथ्वी के बीच अपनी भुजाएँ फैलाकर तेरे व्यवस्थान का अमर चिह्न प्रदर्शित किया। इससे पहले उन्होंने अपने शिष्यों के साथ पास्का-समारोह में हमारे लिये यूखारिस्तीय बलिदान स्थापित करना चाहा; भोजन करते समय येसु ने रोटी ली, - तुझे धन्यवाद दिया, और रोटी तोड़कर - उसे अपने शिष्यों को देते हुए कहा: ’’तुम सब इसे लो और खाओ, - यह मेरा शरीर है, जो तुम्हारे लिए बलि चढ़ाया जाएगा।’’

The priest shows the Host to the faithful, places it on the altar and genuflects (or bows) and says:

पु. - इसी भाँति भोजन के बाद उन्होंने कटोरा लिया, तुझे धन्यवाद दिया और उसे अपने शिष्यों को देते हुए कहाः ’’तुम सब इसे लो और पीओ, यह मेरे रक्त का कटोरा है, नवीन और अनन्त व्यवस्थान का रक्त, जो तुम्हारे और सब के पापों की क्षमा के लिए बहाया जाएगा। तुम मेरी स्मृति में यह किया करो।’’

He shows the Chalice to the faithful, places it on the altar, genuflects (or bows), and says:

पु. - यह है हमारे विश्वास का रहस्य।

सब - हे प्रभु, हम तेरी मृत्यु और पुनरुत्थान की घोषणा तेरे पुनरागमन तक करते रहेंगे।

The priest, with hands extended, continues:

पु. - इसलिए, हे पिता, हम अपने प्रभु येसु ख्रीस्त का स्मरण करते हैं, हमारे पास्का हैं तथा अनश्वर शांति; हम उनकी मृत्यु और पुनरुत्थान का समारोह मनाते तथा उनके पुनरागमन की बाट जोहते हैं; हम तुझे, परम सत्य और विश्वस्त ईश्वर को यह बलि चढ़ा रहे हैं, जो मनुष्यों को तेरे साथ मेल-मिलाप कराता है।

सब - हे पिता, हमें एकता प्रदान कर।

पु. - हे प्रेमी पिता, हम सब पर अपनी स्नेहमयी दृष्टि डाल; तूने हमें अपने पास बुलाकर ख्रीस्त के एकमात्र बलिभोज में सहभागी बनाया है। ऐसा वर दे कि हम पवित्र आत्मा के प्रभाव से, एक शरीर बन जाएँ।

सब - हे पिता, हमें एकता प्रदान कर।

पु. - हे पिता, ऐसा कृपा प्रदान कर कि हम आपस में मेल-मिलाप, तथा संत पिता........और अपने धर्माध्यक्ष.........के साथ मन और हृदय की एकता बनाए रखें। तेरी सहायता से हम उस क्षण तक तेरा राज्य के आगमन की तैयारी में लगे रहें तब स्वर्गलोक में संतो के साथ हमें भी तेरे सम्मुख उपस्थित होने का सौभाग्य प्राप्त होगा। उस समय धन्य कुँवारी मरियम, प्रेरितगण, संत........... तथा अपने मृत भाई-बहनों के साथ हम तेरा प्रषंसागान कर सकेंगे।

सब - हे पिता, हमें एकता प्रदान कर।

पु. - तब सब प्रकार के पाप से मुक्त होकर हम नवप्राणियों के कंठों से पुनर्जीवित अमर ख्रीस्त का कृतज्ञता-गान गूँज उठेगा -

The priest joins his hands, takes the halice and the paten with the Host, and, lifting them up, sings or says:

पु. - इन्हीं प्रभु ख्रीस्त के द्वारा, इन्हीं के साथ और इन्हीं में हे सर्वशक्तिमान् पिता ईश्वर, पवित्र आत्मा के साथ, तुझे समादर तथा महिमा युगानुयुग मिलती रहती है।

सब - आमेन।

Go to Communion Rite (परम प्रसाद की विधि)