अगस्त 4

संत योहन मरिया वियानी

पुरोहिताई की धर्मशिक्षा - सन्त योहन मरिया वियानी

John_vianney पुरोहिताई संस्कार! यह संस्कार मनुष्य को ईश्वर की ओर उठाता है। पुरोहित कौन है? एक मनुष्य जो ईश्वर की जगह ले लेता है, एक मनुष्य जिसे ईश्वर की सभी शक्तियाँ सौंपी गई हैं। प्रभु येसु ने पुरोहित से कहा, “जाओ, जैसे मेरे पिता ने मुझे भेजा है, वैसे मैं तुम्हें भेजता हूँ। स्वर्ग और पृथ्वी का सारा अधिकार मुझे दिया गया है। इसलिए जाओ, सभी मनुष्यों को शिक्षा दो। जो तुम्हारी सुनता है, वह मेरी सुनता है; जो तुम्हें तुच्छ समझता है, वह मुझे तुच्छ समझता है”। जब पुरोहित पापों की क्षमा प्रदान करता है, तब वह नहीं कहता कि ईश्वर तुम्हें पापों से मुक्त कर देते हैं, बल्कि “मैं तुम्हें पापों से मुक्त कर देता हूँ”। प्रतिष्ठान प्रार्थना में वह नहीं कहता कि यह प्रभु का शरीर है, बल्कि ’यह मेरा शरीर है”।

सन्त बरनार्द का कहना है कि सब कुछ मरियम के द्वारा ही आया है। हम यह भी कह सकते हैं कि सब कुछ पुरोहित के द्वारा आता है – सारी खुशीयाँ, सारी कृपाएँ, सारे स्वर्गिक वरदान। अगर पुरोहिताई संस्कार नहीं होता, तो हमारे पास प्रभु नहीं होते। प्रकोश में प्रभु को किसने रखा? पुरोहित ने। वह कौन था जिसने आपके जन्म पर आपकी आत्मा को स्वीकार किया? पुरोहित ने। कौन उसका पालन-पोषण करता और उसकी तीर्थयात्रा के लिए आवश्यक शक्ति प्रदान करता? पुरोहित। अन्तिम समय उसे प्रभु येसु ख्रीस्त के रक्त से शुद्ध कर प्रभु के दर्शन के लिए कौन तैयार करेगा? पुरोहित – हमेशा पुरोहित। यदि कोई आत्मा मृत्यु तक पहुँचती है, तो उसे फ़िर से कौन पुनर्जीवित करेगा, कौन उसे शांति और शालीनता प्रदान करेगा? पुरोहित। पुरोहित को याद किये बिना किसी भी वरदान को तुम याद नहीं कर सकते हो।

तुम माता मरियम या एक स्वर्गदूत के पास पाप-स्वीकार करने जाओ – क्या वे तुम्हें पापों की क्षमा प्रदान कर सकते हैं? नहीं। क्या वे तुम्हें प्रभु के शरीर एवं रक्त प्रदान कर सकते हैं? नहीं। कुँवारी मरियम भी अपने बेटे को होस्तिये में उतार नहीं सकती है। यहाँ दो सौ स्वर्गदूत भी उतर आये, फ़िर भी वे तुम्हें पापों की क्षमा प्रदान नहीं कर सकते हैं। एक पुरोहित, वह कितना भी साधारण क्यों न हो, तुम से कह सकता है – ’मैं तुम्हें तुम्हारे पापों से मुक्त कर देता हूँ, शांति में जाओ’। ओह! कितना महान है एक पुरोहित। पुरोहित अपने पद की गरिमा को तब तक नहीं समझ सकेगा, जब तक वह स्वर्ग नहीं पहुँचता है। अगर वह इस दुनिया में ही उसे समझ लेगा तो वह मर जायेगा, भय के कारण नहीं, बल्कि प्रेम के कारण। एक पुरोहित के सिवा ईश्वर के अन्य वरदान हमारे लिए कोई काम के नहीं हैं। सोने से भरा एक घर तब तक किस काम का है, जब तक उस घर का दरवाज़ा खोलनेवाला कोई न हो। पुरोहित के पास स्वर्ग के खजाने की चाबी है; वही दरवाज़ा खोलता है; वह भले ईश्वर का कारिन्दा है, उनकी सम्पत्ति के वितरक है। पुरोहित के बिना हमारे प्रभु येसु की मृत्यु और पुनरुत्थान हमारे लिए फ़लदायक सिद्ध नहीं होंगे। गैर-ईसाइयों को देखो। प्रभु येसु की मृत्यु से उन्हें क्या लाभ हुआ? वे मुक्ति की आशिषों के सहभागी इसलिए नहीं हैं कि प्रभु के रक्त को उनकी आत्माओं पर लगाने वाले पुरोहित उनके पास नहीं है।

पुरोहित अपने लिए पुरोहित नहीं है; वह स्वयं को पाप-क्षमा नहीं देता; वह खुद के लिए संस्कारों का अनुष्ठान नहीं करता। वह स्वयं के लिए नहीं, तुम्हारे लिए है। ईश्वर के बाद, पुरोहित ही सब कुछ है। एक पल्ली को पुरोहित के बिना 20 साल केलिए छोड़ दो और वहाँ के लोग जानवरों की आराधना करने लगेंगे। अगर मिशनरी फ़ादर और मैं यहाँ से चले जाते तो तुम लोग बोलते, “हम इस गिरजे में क्या कर सकते हैं? मिस्सा नहीं है, प्रभु नहीं है: हम घर पर हीं प्रार्थना कर सकते हैं।“ जब लोग कलीसिया का सर्वनाश करना चाहते हैं, तो पहले पुरोहित पर ही आक्रमण करते हैं, क्योंकि जहाँ पुरोहित नहीं है, वहाँ बलिदान नहीं है और जहाँ बलिदान नहीं है, वहाँ कोई धर्म नहीं है।

अगर कोई प्रकोश की ओर इशारा करते हुए तुम से पूछता है, “वह स्वर्णिम द्वार क्या है?” तो तुम बोलोगे कि वह हमारा खजाना है जहाँ हमारी आत्मा का सच्चा भोजन रखा गया है”। उसकी चाबी किसके पास है? उसे कौन वितरित करता है? त्योहार की तौयारी तथा भोजन का प्रबन्ध कौन करता है? पुरोहित। और भोजन क्या है? प्रभु के मूल्यवान शरीर और रक्त। ओह ईश्वर ! ओह ईश्वर ! आपने कैसे हमें प्यार किया? आपने हमें प्यार किया ! पुरोहित की शक्ति को देखो; एक रोटी के टुकड़े से वह अपने शब्द मात्र से एक ईश्वर को बनाता है। यह तो संसार की सृष्टि से भी बड़ा कार्य है। किसी ने पूछा, “क्या सन्त फ़िलोमिना आर्स के पादरी की आज्ञा का पालन करती है?” ज़रूर करती होगी, क्योंकि ईश्वर भी तो उसकी आज्ञा का पालन करते हैं। पुरोहिताई येसु के हृदय का प्रेम है। जब तुम किसी पुरोहित से मिलते हो, तो येसु के बारे में सोचो।

अगर मेरी मुलाकात एक पुरोहित और एक स्वर्गदूत से होती, तो मैं स्वर्गदूत का अभिवादन करने से पहले पुरोहित का अभिवादन करूँगा। स्वर्गदूत तो ईश्वर का मित्र है; लेकिन पुरोहित ईश्वर की ही जगह ले लेता है। सन्त तेरेसा उस रास्ते का चुम्बन करती थी जिस रास्ते से पुरोहित जाता था। जब तुम एक पुरोहित से मिलते हो, तो तुम्हें बोलना चाहिए, “यह वह है जिसने मुझे ईश्वर की सन्तान बनाया और बपतिस्मा के द्वारा मेरे लिए स्वर्ग का द्वार खोल दिया; मेरे पाप करने के बाद जिसने मुझे शुद्ध किया; जो मेरी आत्मा को पोषण देता है”। गिरजे की मीनार को देख कर तुम शायद पूछोगे, “उस जगह में क्या है?” हमारे प्रभु का शरीर। “वह क्यों वहाँ है?” क्योंकि पुरोहित वहाँ था और उन्होंने मिस्सा बलिदान चढ़ाया”।


Copyright © www.jayesu.com
Praise the Lord!