प्रभु की विनती

हे पिता हमारे, 
जो स्वर्ग में हैं, 
तेरा नाम पवित्र माना जावे,
तेरा राज्य आवे,
तेरी इच्छा जैसे स्वर्ग में है,
वैसे इस पृथ्वी पर भी हो।

हमारा प्रतिदिन का आहार आज हमें दे,
और हमारे अपराध हमें क्षमा कर,
जैसे हम भी अपने अपराधियों को क्षमा करते हैं,
और हमें परीक्षा में न डाल,
परन्तु बुराई से बचा। 
आमेन।


Copyright © www.jayesu.com
Praise the Lord!